Golden Words by Ratan Tata During Corona Virus Fact Check

The Tweet is not done by Ratan Tata

रतन टाटा का संदेश-

2020 में, केवल जीवित रहना आवश्यक है।

लाभ या हानि की चिंता न करें,

अपने सपनों या रणनीति के बारे में न बोलें

इस वर्ष, जीवित रहने के लिए एकमात्र महत्वपूर्ण चीज है

जीवित रहना सबसे बड़ा लाभ है

Social Media पर यह दावा किया जा रहा है कि रतन टाटा ने कोरोनोवायरस प्रकोप के बारे में एक विशिष्ट बयान जारी किया था, लेकिन वे झूठे साबित हुए हैं।

दावा:
रतन टाटा कोरोनोवायरस प्रकोप पर एक बयान देते हैं
पड़ताल
असत्य

कोरोनावायरस महामारी ने समाज के विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित लोगों को प्रभावित किया है। लेकिन इस समय इंटरनेट पर कई फर्जी समाचार प्रसारकों ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में बाधा उत्पन्न करते हुए विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर नकली संदेश पोस्ट किए हैं। एक प्रसिद्ध व्यक्तित्व की फोटो के साथ नकली उद्धरण साझा करने का एक चलन इंटरनेट पर भी देखा गया है।

रतन टाटा की फोटो के साथ नकली उद्धरण को व्हाट्सएप और फेसबुक सहित विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शुरू में साझा किया गया था। फर्जी संदेश को कथित तौर पर एक समाचार पत्र में छापा गया था, जिसने इसे आगे वायरल कर दिया। रतन टाटा ने खुद अपने ट्विटर पर लिया और स्पष्ट किया कि वह है उन्होंने यह भी कहा कि उद्धरण के साथ उनका चित्र होना यह गारंटी नहीं देता है कि उद्धरण उनके द्वारा कहा गया है।

इंटरनेट पर दुनिया भर के विभिन्न नामी व्यापारियों की तस्वीर के साथ एक समान संदेश प्रसारित किया जा रहा है। हाल ही में, एक फोटो में दावा किया गया है कि अलीबाबा के सह-संस्थापक जैक मा ने रतन टाटा के समान शब्द कहे हैं। फर्जी साबित हुआ है। यह पहली बार नहीं है जब रतन टाटा को इंटरनेट पर उनके नाम के तहत फर्जी संदेशों के बारे में स्पष्टीकरण देना पड़ा था। हाल ही में उन्होंने बताया था कि उनके नाम के तहत वायरल किया जा रहा एक संदेश पूरी तरह से गलत था। उन्होंने भी लोगों से इंटरनेट पर साझा की जा रही खबरों को सत्यापित करने का आग्रह किया।

Leave a Reply